श्री रामचंद्र जन्म मुहूर्त में रखी जाएगी आधारशिला

अयोध्या। देश ही नहीं दुनिया में आस्था के प्रतीक भगवान राम के मंदिर निर्माण का शुभारंभ अयोध्या में उसी मुहूर्त में होने जा रहा है जिस मुहूर्त में भगवान राम का जन्म हुआ था। 18 जुलाई 2020 को हुई राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट की बैठक में 3 और 5 अगस्त को मंदिर के निर्माण कार्य करने की तिथि का सुझाव पीएमओ को भेजा गया था।

पीएमओ द्वारा 5 अगस्त 2020 की तिथि को अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू किये जाने के लिए निर्धारित किया गया है। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शामिल होंगे और मंदिर निर्माण की आधारशिला रखेंगे। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी 40 किलो की चांदी की र्इंट गर्भगृह में रखेंगे। साथ ही चांदी की पांच र्इंट और रखी जाएंगी जो पांच नक्षत्रों के प्रतीक होंगी। करीब साढ़े तीन फिट का गड्ढा खोदा जायेगा जिसमें पाताल लोक के देवता की पूजा की जाएगी और प्रार्थना की जाएगी कि लाखों साल तक इस मंदिर को कोई नुकसान न पहुंचे।

भूमि पूजन की खास बातें

  • भूमि पूजन की तिथि – 5 अगस्त 2020
  • भूमि पूजन समय- 12 बजकर 15 मिनट दोपहर
  • भूमि पूजन का मुहूर्त- अभिजीत
  • कार्य आरंभ का नक्षत्र – धनिष्ठा
  • कार्य समापन का नक्षत्र- शतभिषा

अभिजीत मुहूर्त में ही जन्में थे राम

अयोध्या में भगवान राम का जन्म अभिजीत मुहूर्त में ही हुआ था। इसी मुहूर्त में मंदिर निर्माण की आधारशिला रखी जाएगी। काशी के पंडित इस मुहुर्त में पूजन कर प्रधानमंत्री मोदी के हाथों मंदिर निर्माण कार्य का शिलान्यास कराएंगे। ज्योतिषियों के मुताबिक अभिजीत मुहूर्त में भूमिपूजन वैभवशाली साबित होगा। 15 मुहूर्तों में अभिजीत 8वें स्थान पर आता है। इसी तरह नक्षत्रों में अभिजीत 28वें स्थान पर है। यह मुर्हूत सभी कायों के लिए शुभ होता है। विशेष बात यह है कि 5 अगस्त 2020 को भ्रदपद माह में सिंह राशि में सूर्य रहेंगे। इससे यह मुहूर्त और फलदायी होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *